Followers

Sunday, 9 July 2017

pyari maa प्यारी माँ




अहसास का सुंदर भाव है माँ
डूबते हुवे जीवन की नाव है माँ
कभी प्यार कभी दुलार
कभी डांट कभी आशीर्वाद
कभी तपती दोपहरी में
शीतल ठंडी छाँव हैं माँ
कष्टों के गागर पर
ममता का सागर लिए
हरदम हरवक्त तैयार 
रहती है माँ
कभी माँ कभी सहेली कभी गुरु
हर किरदार निभाती है
मेरी जीवन की बगिया के 
सारे काँटों को तोड़
फूलों से भर देती है
सूखे - सूखे जीवन में
रिमझिम रिमझिम बरसात सी माँ
अहसास का सुंदर भाव है माँ
डूबते हुवे जीवन की नाव है माँ

रीना मौर्य मुस्कान

6 comments:

  1. बहुत सुंदर ... मर्मस्पर्शी

    ReplyDelete
  2. माँ पर गहरे भाव लिए रचना!

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सुन्दर और उम्दा अभिव्यक्ति, आभार।

    ReplyDelete
  4. अपनी रचना और अपनी कलम पर पूरा विश्वाश और बेहद प्यार को दर्शाती रचना बहुत ही खूबसूरत अहसास |
    सुन्दर रचना |

    ReplyDelete